GoShudh का डायबिटिक आटा; मधुमेह रोगियों के लिए संजीवनी

AD: Best wishes GoShudh from www.gofrugal.com

आजकल की भागदौड़ भरी दिनचर्या, समय की कमी, सामाजिक शैली हमें बेहतर जीवन और उत्तम स्वास्थ्य का आनंद लेने से रोक रही है। तभी तो कम उम्र में ही लोगों को मोटापा, दिल की बीमारियां, फैटी लीवर, हाई ब्लड प्रेशर, मधुमेह जैसे कई तरह के रोग हो रहे हैं। मिलावटी खाना, जंक फूड और मीठे से लबरेज़ आहार लेने से भी लोगों में बीमारियां बढ़ रही हैं। जैसा कि आप सब जानते हैं स्वस्थ रहने के लिए संतुलित भोजन लेना जरूरी है लेकिन उससे भी जरूरी है उसका शुद्ध होना।

आजकल बाज़ार में ऐसे खाद्य पदार्थ कम ही उपलब्ध होते हैं जो कि बिना केमिकल और मिलावट के हों। जबकि आजकल लोग पहले की अपेक्षा अपने स्वास्थ्य को लेकर और ज्यादा जागरुक हो गये हैं और वे भी अच्छे उत्पादों की तलाश में रहते हैं। इसी समस्या को दूर करने और लोगों तक पौष्टिक खाद्य उत्पाद पहुंचाने के लिए जयपुर के फूड प्रोसेसिंग ब्रांड GoShudh ने कई सालों की रिसर्च के बाद डायबिटिक आटा, हार्टकेयर आटा, मल्टी वीटा आटा, मल्टी ग्रेन जैसे उत्पाद बाज़ार में उतारे हैं। GoShudh के फाउंडर और सीईओ सुमित गुप्ता ने शेफभारत.कॉम से बातचीत में कहा कि ग्राहकों की मांग को ध्यान में रखते हुए ही उनकी कोर टीम और कंपनी ने विभिन्न खाद्य उत्पाद तैयार किये हैं जो कि पूरी तरह शुद्ध होने के साथ ही उचित मूल्य पर बाज़ार में उपलब्ध हैं।

बातचीत के मुख्य बिंदु    सबसे पहले, आपने GoShudh नाम कैसे चुना?

हम अपने उत्पाद शुद्धतम साम्रगी का इस्तेमाल करके बनाते हैं इसलिए हमे एक ऐसा ब्रांड नाम चाहिए था जिससे हमारे उत्पाद की खासियत झलके और भारतीय घरों में इसकी एक खास पहचान बनाई जा सके। लोग इन्हें आसानी से अपना सके। GoShudh का मतलब ही है Go Pure, इसलिए हमने ये नाम चुना।

हमें अपने उत्पादों के बारे में बताएं, और यह भी कि ये दूसरों के उत्पादों से अलग कैसे हैं?

हमने अपने उत्पादों जैसे कि आटा और प्राकृतिक नमक को 2-3 सालों की गहन रिसर्च करके तैयार किया है। इसके बाद इनका विभिन्न संस्थानों से परीक्षण भी कराया गया है। हमारी साइंटफिक अपरोच ही हमें दूसरे ब्रांड्स से अलग बनाती है।

आपका उत्पाद Diabetic Atta मधुमेह को रोकने के लिए है। यह उन लोगों के उद्देश्य को कैसे हल करता है जिन्हें पहले से ही मधुमेह हैं?

आज की दुनिया में, मधुमेह और रक्तचाप सबसे आम रोग हैं। इन रोगों से जूझ रहे मरीजों को परहेज के साथ-साथ खान-पान का ख्याल रखना पड़ता है। इसके साथ ही उन्हें शरीर में ऊर्जा के स्तर को बनाए रखते हुए रक्त शर्करा (blood sugar) के स्तर को नियंत्रित भी रखना पड़ता है। ये सब करने के लिए सबसे अच्छा तरीका पौष्टिक आहार का सेवन करना है।

GoShudh का डायबिटिक आटा मधुमेह के रोगियों के लिए विशेष रूप से बनाया गया है, जिसमें 8 प्राकृतिक अनाज जैसे कि रागी, बाबची के बीज, पर्ल बाजरा, सोरघम, मक्का, जौ और अलसी (flaxseed) के साथ गेहूं आदि अनाज हैं। ये सभी मिलकर शरीर में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा को नियंत्रित करते हैं और साथ ही ये आटा बार-बार खाने की इच्छा को भी नियंत्रित करता है।

इस आटे में काफी मात्रा में फाइबर, प्रोटीन, आवश्यक विटामिन और खनिज जैसे पोटेशियम, कैल्शियम, आइरन, जिंक आदि तत्व शामिल हैं। इस आटे में अनसैचुरेटेड ओमेगा फैटी एसिड भी पर्याप्त मात्रा में हैं जो अच्छे स्वास्थ्य के लिए जरूरी होता है। इस आटे के इस्तेमाल से मधुमेह रोगी आहार में मौजूद सैचुरेटेड वसा से बचे रह सकेंगे।

इस आटे में बाजरा व अन्य अनाजों का ऐसा अनूठा मिश्रण हैं जिसमें ग्लूकोज कम और फाइबर ज्यादा होता है जोकि शरीर में रक्त शर्करा और कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है। जौ, अलसी, बाबची के बीज और फिंगर बाजरा आदि रक्त में मौजूद ग्लूकोज के अवशोषण की प्रक्रिया को धीमा कर देते हैं जिससे शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने, मोटापे पर काबू रखने और पाचन प्रक्रिया दुरुस्त रखने में मदद मिलती है। हमारा यह डायबिटिक आटा केवल मधुमेह रोगी ही नहीं सभी खा सकते हैं।

GoShudh

कुछ रिपोर्टों से पता चलता है कि ग्लूटेन उत्पादों के कारण आंतों में सीलिएक रोग हो जाता है। इस पर आपका क्या विचार है?

कुछ लोगों को ग्लूटेन से एलर्जी होती हैं जिससे उन्हें सीलिएक रोग हो सकता है। सीलिएक रोग एक क्रोनिक पाचन विकार है, जो कि गेहूं, जौ, राई और कभी-कभी जई में पाए जाने वाले ग्लूटेन प्रोटीन—ग्लियाडिन (gliadin) के प्रति इम्यून प्रतिक्रिया के चलते होता है। इस बीमारी में छोटी आंत में सूजन हो जाती है और आंतरिक परत क्षतिग्रस्त होने लगती है जिससे आंत को खनिज और पोषक तत्व पचाने में दिक्कत होने लगती है। GoShudh का डाइट आटा ऐसे ही लोगों के लिए तैयार किया गया है जिन्हें ग्लूटेन से एलर्जी है, इस आटे में 11 तरह के बाजरा मिलाया जाता है। यह आटा ग्लूटेन फ्री है और पाचन क्रिया को ठीक रखता है।

नये तौर-तरीकों से लोगों में हाई ब्लडप्रेशर और दिल की बीमारियां बढ़ रही हैं, आप इसे खान-पान से जोड़कर कैसे देखते हैं?

आज की दुनिया में हमारी तेजी से बदलती जीवन शैली और खाने-पीने की आदतों के कारण दिल संबंधी बीमारियां  बढ़ रही हैं। लोगों में काम-काज का तनाव, देर-सबेर भोजन करना, जंक फूड की अधिकता आदि के कारण स्वास्थ्य पर काफी नकारात्मक प्रभाव पड़ रहा है और लोग कम उम्र में ही खतरनाक बीमारियों से ग्रस्त हो रहे हैं।

हमें अपने उत्पादों के बारे में बतायें, ये कितने कीमती हैं और क्या ग्राहकों को जल्द से जल्द उत्पादों की उपलब्धता सुनिश्चित की जा सकती है?

हमारे उत्पाद बेहतर और उच्च पोषक तत्वों वाले आहार और तकनीकी देखरेख में तैयार किये गये हैं, जो कि शरीर को बीमारियों से बचाते हैं। इनकी कीमत उन दवाइयों की तुलना में काफी कम है, जो की बीमारी होने के बाद लेनी पड़ती हैं। हमारे उत्पाद ज्यादातर ऑनलाइन मार्केटप्लेस जैसे कि Amazon, Flipkart, Snapdeal, Paytm, Goqii पर उपलब्ध हैं। इसके साथ ही हम खुद की ऐप भी तैयार कर रहे हैं जो कि जल्द ही आपको ऐपस्टोर पर मिल जायेगी। फिलहाल हम एक दिन में लगभग 2000 से ज्यादा ऑर्डर्स को उपभोक्ताओं को डिलीवर कर रहे हैं।

किस प्रकार के होटल और रेस्तरां आपके उत्पादों का उपयोग कर सकते हैं और आप कैसे आश्वस्त करेंगे कि ये स्वाद से समझौता नहीं करते हैं?

हमारे उत्पाद दूसरों से काफी अलग हैं। और जहां तक ​​होटलों और रेस्तरां का संबंध है, वे सभी हमारे उत्पादों के साथ ग्लूटेन फ्री खाने की रेंज पेश कर सकते हैं। इसके अलावा इन उत्पादों से बेकरी आइटम्स भी आसानी से तैयार किये जा सकते हैं जो मधुमेह रोगी और ग्लूटेन एलर्जी वाले लोगों के साथ-साथ आम लोग भी चाव से खा सकते हैं। हमारे आटे का स्वाद ऐसा है कि इससे किसी भी तरह कि ब्रेड, चपातियां, बिस्किट या दूसरे बेकरी उत्पाद बनाये जा सकते हैं।

Leave a comment